रेगिस्तान से निकलकर कैसे बनाई भारतीय टीम में जगह रवि बिश्नोई ने-

रवि बिश्नोई का जन्म 5 सितंबर 2000 को जोधपुर के बिरामी गांव में हुआ। इनके पिता का नाम मांगीलाल बिश्नोई माता का नाम शिवरी बिश्नोई है। रवि बिश्नोई ने अपने करियर की शुरुआत एक तेज गेंदबाज की तौर पर की थी परंतु उनके कोच प्रधोत सिंह ने स्पिन गेंदबाजी करने की सलाह दी। रवि बिश्नोई ने दाएं हाथ से लेग स्पिन गेंदबाजी करनी शुरू कर दी। रवि बिश्नोई को 2020 में अंडर-19 क्रिकेट विश्व कप के लिए भारतीय टीम में चुना गया॥ जिसमें रवि बिश्नोई ने शानदार प्रदर्शन करते हुए टूर्नामेंट में सर्वाधिक 17 विकेट झटके तथा भारत को फाइनल तक पहुंचाने में अहम भूमिका निभाई। इसके बाद रवि विश्नोई को राजस्थान की टीम मैं सैयद मुश्ताक अली ट्रॉफी के लिए और देवधर ट्रॉफी के लिए चुना गया उन में अच्छा प्रदर्शन करने के बाद उन्हें भारत की ए टीम के लिए चुना गया। रवि बिश्नोई को 2021 में आईपीएल में किंग्स इलेवन पंजाब ने खरीदा आईपीएल में भी बिश्नोई का प्रदर्शन शानदार रहा जिसके चलते उन्हें वेस्टइंडीज के खिलाफ होने वाली T20 और वनडे सीरीज के लिए चुना गया है। रवि बिश्नोई ने 2021 के आईपीएल में पंजाब की ओर से 6 मैचों में 9 विकेट झटके थे। 2022 आईपीएल के लिए लखनऊ की टीम ने रवि बिश्नोई को खरीदा है। बिश्नोई लखनऊ की ओर से अपना जलवा आईपीएल में दिखाएंगे।

Leave a Comment