पांच ऐसे गेंदबाज जिन्होंने अपने पूरे करियर में किसी भी बल्लेबाज से नहीं की नोकझोंक

क्रिकेट को जेंटलमैन खेल कहा जाता है। क्रिकेट में मैच के फैसले के बाद सभी खिलाड़ी आपस में हाथ मिलाकर एक दूसरे को शाबाशी तथा धन्यवाद प्रदान करते हैं। इसलिए इस खेल की लोकप्रियता भी धीरे-धीरे बढ़ती गई।जैसे-जैसे क्रिकेट बढ़ता गया वैसे-वैसे इसके प्रारूप नियमों में बदलाव होते गये। फिर धीरे-धीरे खिलाड़ियों में आपस में नोकझोंक भी होने लगी। लेकिन क्रिकेट के इतिहास में कुछ तेज गेंदबाज ऐसे भी हुए हैं जिन्होंने कभी भी किसी भी बल्लेबाज के खिलाफ नोकझोंक नहीं की है चाहे उसे आउट भी किया हो।

सबसे पहले नंबर पर आते हैं भारतीय तेज गेंदबाज जवागल श्रीनाथ 90 के दशक में श्रीनाथ के नाम की तूती बोलती थी। जवागल श्रीनाथ ने ही भारतीय गेंदबाजी की दशा बदली थी। श्रीनाथ ने अपने पूरे करियर में कभी भी किसी भी बल्लेबाज के साथ किसी भी प्रकार की नोकझोंक नहीं की।

2. दूसरे नंबर पर दक्षिण अफ्रीका के पूर्व कप्तान शान पोलक आते हैं।शान पोलक दक्षिण अफ्रीका के सबसे सफल गेंदबाजों में से एक हैं। शान पोलक ने अपने क्रिकेट करियर में बेहतरीन बल्लेबाजी व गेंदबाजी का मुजारा किया है। परंतु कभी भी उन्होंने किसी भी बल्लेबाज को उकसाने की कोशिश नहीं की।

3.तीसरे नंबर पर इंग्लैंड के तेज गेंदबाज ट्रेंट बौल्ट का नाम आता है। ट्रेंट बौल्ट ने वर्ल्ड कप 2015 में शानदार प्रदर्शन किया था।ट्रेंट बौल्ट मिशेल स्टार्क के बाद सबसे ज्यादा विकेट लेने वाले गेंदबाज थे। परंतु ट्रेंट बोल्ट ने अपने करियर में बड़े-बड़े दिग्गज बल्लेबाजों को आउट किया है।परंतु कभी भी उन्होंने किसी भी बल्लेबाज के प्रति स्लेजिंग नहीं की।

4.चौथे नंबर पर वेस्टइंडीज के स्पिन गेंदबाज सुनील नारायण का नाम आता है। सुनील नारायण काफी शांत स्वभाव के गेंदबाज हैं। सुनील नारायण को उनकी बहुत ही शानदार गेंदबाजी के लिए जाना जाता है। सुनील नारायण लगभग सभी देशों में आयोजित होने वाली T20 लीग में खेलते हैं साथ में ही वेस्टइंडीज टीम का हिस्सा रहे हैं। परंतु उन्होंने कभी भी किसी भी बल्लेबाज को उकसाने की कोशिश नहीं की है।

5. पाचवे नंबर पर पूर्व श्रीलंका के कप्तान तेज गेंदबाज लसिथ मलिंगा का नाम आता है।मलिंगा ने जब अपने करियर की शुरुआत की थी तब उनको अजीबोगरीब एक्शन के लिए जाना जाता था। परंतु धीरे-धीरे अपने लंबे क्रिकेट करियर में उन्होंने बेहतरीन गेंदबाजी की। श्रीलंका को अपनी गेंदबाजी के दम पर अनेकों मैच जीताये। परंतु उन्हें सरल व शांत स्वभाव के लिये क्रिकेट में याद किया जाता है। लसिथ मलिंगा ने कभी भी किसी भी बल्लेबाज के प्रति कोई भी नोकझोंक नहीं की तथा अपने करियर के दौरान हर वक्त मुस्कुराते ही दिखे।

Leave a Comment